Search This Blog

Saturday, September 30, 2017

Gadhe ki chhaya, ek motivational story

नमस्कार दोस्तो,
आज हम आपके लिए एक ऐसी कहानी 'गधे की छाया, एक मोटिवेशनल स्टोरी' लेकर आए हैं जिसमें 2 व्यक्ति किसी चीज को प्राप्त करने के लिए लड़ते हैं | परंतु वह किसी को भी प्राप्त नहीं होती |जानिए आगे क्या होता है ? 
 motivational story in hindi, an ass story, a shade story, hindi kahani etc.

दोस्तो, यदि आप ऐसी ही वीडियो youtube पर देखना चाहते हैं, तो नीचे दी नीली लाइन पर क्लिक करें, अपना ही चैनल है subscribe भी कर लेना,

Watch on YouTube

Let's begin... 
किसी गांव में मोहन नाम का एक व्यापारी रहता था |एक बार उसे किसी काम से दूसरे गांव जाना पड़ा | वह गांव काफी दूर था |उस समय गर्मी भी बहुत पड़ रही थी | इसी कारण से मोहन ने एक गधे को किराए पर ले लिया |

फिर मोहन गधे और उसके मालिक के साथ यात्रा पर चल पड़ा |गधे का मालिक आगे आगे चल रहा था |चलते - चलते दोपहर हो गई |सूरज अब उनके सिर के ठीक ऊपर पहुंच चुका था |गर्मी के मारे उनकी हालत खराब हो रही थी |धरती तवे के समान तप रही थी |अब तक उन दोनों को भूख भी लग आई थी |

एक स्थान पर मोहन गधे से उतरकर उसकी छाया में बैठा और अपनी भोजन की पोटली खोलने लगा |गधे का मालिक भी गधे की छाया मैं आराम करना चाहता था | वह बोला , "तुम यहां से उठो |मैंने तुम्हें गधा किराए पर दिया है , उसकी छाया नहीं |" मोहन विरोध करते हुए बोला , "क्या बेकार की बात है ? जब मैंने तुझसे  गधा किराए पर लिया है तो इसकी छाया भी तो मेरी हो गई |इसकी छाया में मैं ही भोजन करुंगा |ज्यादा बातें मत बनाओ |

गधे का मालिक बोला - "मैं भी जानता हूं कि क्या चीज मेरी है और क्या नहीं |अब चुपचाप उठो और मुझे अपने गधे की छाया में बैठने दो |" काफी देर तक दोनों के बीच इसी बात को लेकर वाद - विवाद होता रहा | 

उधर गधा धूप में खड़ा-खड़ा बुरी तरह थक गया था |लेकिन उसकी तरफ तो उनका ध्यान ही नहीं था| जब गधे को धूप और भूख बर्दाश्त नहीं हुई तो वह वहां से भाग निकला |गधे की छाया पर आपस में झगड़ रहे उन लोगों को यह पता ही नहीं चला कि जिस गधे की छाया को लेकर वे आपस में झगड़ रहे हैं, वह वहां से भाग चुका है |जब उन्हें यह पता चला तो उन दोनों ने अपना सिर पीट लिया|

इस कहानी से हमें सीखना चाहिए कि हमें किसी ऐसी वस्तु के लिए लड़ाई नहीं करनी चाहिए जो ना हमें प्राप्त हो ,ना दूसरे को |

तो दोस्तों, आपको यह 'गधे की छाया, एक मोटिवेशनल स्टोरी' कैसी लगी, कमेंट में बताएं और यदि आपका कोई सवाल है तो आप उसे भी कमेंट में पूछ सकते है| आपको किस टॉपिक पर जानकारी चाहिए यह भी आप कमेंट बॉक्स में बता सकते हैं|
तो दोस्तों, अब आप इस ब्लॉग को subscribe करिए और इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ शेयर करिये|
Thanks for read,